• support@answerspoint.com

दीन-ए-इलाही धर्म के सिद्धांत लिखिए । Write the principles of Din-i-Ilahi religion.

366

 दीन-ए-इलाही धर्म के सिद्धांत लिखिए । Write the principles of Din-i-Ilahi religion.

1Answer


0

अकबर एक धर्म सहिष्णु था। उसने धर्म के क्षेत्र में नवीन प्रयोग किया और विभिन्न धर्मों की अच्छाईयों को लेकर 1582 ई. में एक नवीन धर्म की स्थापना की जो दीन-ए-इलाही धर्म के नाम से जाना गया। दीन-ए-इलाही धर्म के प्रमुख सिद्धांत अथवा विशेषताएं निम्नलिखित थी :-

  1. ईश्वर एक है, तथा अकबर उसका पैगम्बर व नेता है। दीन-ए-इलाही का अनुयायी बनने के लिये प्रत्येक व्यक्ति को अकबर से दीक्षा लेना आवश्यक था।
  2. सभी सदस्यों को अकबर को साष्टांग प्रणाम करना आवश्यक था।
  3. प्रत्येक व्यक्ति अपने जन्म दिवस पर भोजन का आयोजन करता था ।
  4. इसके अनुयायियों के लिये मांस खाना निषेध था।
  5. इस धर्म को रविवार के दिन ही स्वीकार किया गया था।
  6. दाढ़ी रखना प्रतिबन्धित था।
  7. दान व उदारता का पालन करना आवश्यक था।
  8. जीवों से विमुक्ति व ईश्वर से लगाव ।
  9. अनुयायियों को उसकी इच्छानुसार जलाया या दफन किया जा सकता था।
  • answered 4 months ago
  • Community  wiki

Your Answer

    Facebook Share        
       
  • asked 4 months ago
  • viewed 366 times
  • active 4 months ago

Hot Questions