• support@answerspoint.com

वैदिक कालीन आश्रम व्यवस्था का वर्णन कीजिए। Describe the ashram system of Vedic period.

1087

वैदिक कालीन आश्रम व्यवस्था का वर्णन कीजिए। Describe the ashram system of Vedic period.

2Answer


0

वैदिक कालीन सभ्यता में सामाजिक संगठन की प्रथम इकाई परिवार था। यहाँ आर्यों ने जीवन को चार आश्रमों  1. ब्रह्मचर्य, 2. गृहस्थ, 3. वानप्रस्थ एवं 4. सन्यास आश्रमों में बाँट रखा था

  1. ब्रह्मचर्य आश्रम :- यह 6 वर्ष से 25 वर्ष के मध्य का जीवन था जिसमें बालक गुरु आश्रम में रहकर आदर्श जीवनयापन के लिये आवश्यक सभी स्तर का ज्ञान प्राप्त कर अपने व्यवहार, आचरण और संस्कार ग्रहण करता था।
  2. गृहस्थ आश्रम :- ब्रह्मचर्य आश्रम से शिक्षाग्रहण कर मनुष्य विवाह कर वंश-परम्परा को बढ़ाने हेतु 50 वर्षों तक गृहस्थ जीवन-यापन करते हुए संतान पालन, जीवन स्तर को शारीरिक श्रम से उन्नत करने में लगा रहता था। इसी काल में सामाजिक जीवन शैली में अतिथि सत्कार, अन्य वर्ग जीवों से मिलन व्यवहार व सहयोग करना सीखता था।
  3. वानप्रस्थ आश्रम :- गृहस्थ जीवन में अपने 50 वर्ष की आयु प्राप्त करते हुए मानव अपने परिवार, सगे-संबंधियों से सांसारिक बंधनों से मुक्त होकर पत्नी सहित किसी एकांत क्षेत्र में रहता था। यहाँ वह विभिन्न गुरु आश्रमों में भ्रमण कर, सत्संग के द्वारा ईश्वर प्राप्ति के मार्ग को  तलाशता है।
  4. संन्यास आश्रम :- यह काल 75 वर्ष की आयु पूर्ण करने के साथ व्यक्ति पत्नी का भी त्याग कर पूर्णतः संसार से अपने आप को अलग कर कंदमूल ग्रहण करते हुए ब्रह्मचिन्तन करते हुए मोक्ष की कामना करता है।
  • answered 1 year ago
  • Community  wiki

0

एक भारतीय का औसत जीवन 100 वर्ष माना जाता था। इसके आधार पर वैदिक जीवन के चार आश्रम थे- 

  • ब्रह्मचर्य,
  • गृहस्थ,
  • वानप्रस्थ और
  • संन्यास


प्रत्येक चरण या आश्रम का लक्ष्य उन आदर्शों को पूरा करना था जिन पर ये चरण विभाजित थे। आश्रम जीवन के चरणों का अर्थ है कि व्यक्ति अपनी आयु के आधार पर जीवन के सभी चार चरणों में आश्रय लेता है।
 

जीवन के चार आश्रमों के अनुसार एक आदमी को 4 चरणों में अपने जीवन का नेतृत्व करने की उम्मीद थी:
ब्रह्मचर्य: – यह चरण पहला है जो 25 वर्ष तक रहता है। इस अवस्था में मनुष्य विद्यार्थी जीवन जीता है और ब्रह्मचर्य का पालन करता है। इस चरण का आदर्श वाक्य मनुष्य को स्वयं को प्रशिक्षित करने के लिए प्रशिक्षित करना है।

गृहस्थ: – इस समय मनुष्य को अपने सामाजिक और पारिवारिक जीवन पर ध्यान देने की आवश्यकता है। यह चरण 25 से शुरू होता है और 50 साल तक रहता है। गृहस्थ व्यक्ति के जीवन का एक महत्वपूर्ण पड़ाव है जहाँ मनुष्य को अपने पारिवारिक और सामाजिक कर्तव्यों दोनों को संतुलित करना होता है। वह विवाहित है और अपने घर का प्रबंधन करती है और साथ ही साथ बाहर की दुनिया की जरूरतों को भी देखती है। उसे एक बेटे, भाई, पति, पिता और समुदाय के सदस्य के कर्तव्यों का निर्वहन करना होगा।

वानप्रस्थ: – यह आंशिक त्याग का कदम है। यह अवस्था 50 वर्ष की आयु में मनुष्य के जीवन में प्रवेश करती है और 75 वर्ष की आयु तक रहती है। उसके बच्चे बड़े हो जाते हैं और वह धीरे-धीरे भौतिक संबंधों से दूर हो जाता है। यह सेवानिवृत्ति के लिए उसकी उम्र है और एक ऐसे रास्ते पर चलना शुरू करता है जो उसे दिव्य की ओर ले जाएगा।

संन्यास: उनके जीवन का अंतिम चरण तब आता है जब वह अपने सांसारिक संबंधों को पूरी तरह से बंद कर देते हैं। यह चरण 75 से शुरू होता है और मर जाने तक रहता है। वह भावनात्मक जुड़ावों से पूरी तरह मुक्त है। वह एक तपस्वी बन जाता है।

एक सच्चा भक्त वह है जो अपने कर्तव्यों को जानता है और उन्हें पूरा करता है। समाज को दोनों तरह के लोगों की जरूरत है-वह जो भगवान को आगे बढ़ाने के लिए सभी को छोड़ देता है और वह जो एक सामाजिक संस्था के भीतर रहता है और कर्म और धर्म के बीच संतुलन बनाता है।

इसी तरह के आध्यात्मिक कंटेंट के लिए डाउनलोड करें "समत्व ऐप
 

Download on Play Store

 

 

 

 

  • answered 2 months ago
  • Samatva App

Your Answer

    Facebook Share        
       
  • asked 1 year ago
  • viewed 1087 times
  • active 1 year ago

Best Rated Questions