ग्राम कचहरी से आप क्या समझते है? ग्राम कचहरी में किन-किन धाराओं की सुनवाई होगी?

ग्राम कचहरी क्या है?

ग्राम वासियों का सुलभ एवं सस्ता न्याय प्रदान करने हेतु बिहार पंचायत राज अधिनियम, 2006 के तहत ग्राम कचहरी की स्थापना का प्रावधान किया गया है| भारतीय संविधान के अनुच्छेद - 40 में यह वर्णित है कि राज्य सरकार पंचायत का गठन करेगी एवं पंचायत को स्वायत्ता इकाई के रूप में कार्य करने हेतु शक्ति एवं अधिकार प्रदान करेगी।

ग्राम कचहरी को कितना जुर्माना करने का अधिकार है?

धारा -107 के तहत ग्राम कचहरी को एक हजार रूपये तक जुर्माना करने की शक्ति दी गई है। बिहार पंचायत राज कानून 2006 के अधीन सरपंच, उप सरपंच व पंच को आईपीसी की धारा में 10 हजार रुपए तक के मामलों की सुनवाई व एक हजार रुपए तक जुर्माना का अधिकार है। ग्रामीणों का झगड़ा सुलझाने का भी हक है। ग्राम कचहरी निंकुश न हो जाये इसकें लिए यह प्रावधान किया गया है कि ग्राम कचहरी को करावास की सजा देने का कोई अधिकार नहीं है।

अपील- ग्राम कचहरी की न्यायपीठ के किसी आदेश या निर्णय के विरूद्ध अपील आदेश पारित होने के 30 दिनों के भीतर ग्राम कचहरी में पूर्ण न्यायपीठ के समक्ष दायर की जायेगी, जिसमें 7 पंचों से गणापूर्ति होगी। ग्राम कचहरी के पूर्ण पीठ के न्याय निर्णय के विरूद्ध आदेश पारित होने के 30 दिनों के अन्दर सिविल मामले में अवर न्यायाधीश के समक्ष एवं आपराधिक मामले में जिला एवं सत्र न्यायाधीश के समक्ष दायर की जायेगी।


पुलिस एवं न्यायपालिका की भूमिका - धारा-113 के अन्तर्गत ग्राम कचहरी के न्यायपीठ द्वारा विचारणीय कोई अपराध किये जाने की स्थिति में किसी थाना पदाधिकारी को दिये गये प्रत्येक सूचना की जानकारी ग्राम कचहरी की न्यायपीठ को, जिसके सीमा क्षेत्र में अपराध किया गया है, ऐसी सूचना की प्राप्ति के 15 दिनों के अन्दर दी जायेगी। आशय यह है कि ग्राम कचहरियों के अधिकार क्षेत्र के मामले में पुलिस के द्वारा कार्रवाई न कर उन्हें ग्राम कचहरियों के द्वारा सुलझा लिये जाने की व्यवस्था पुलिस के द्वारा भी सुनिश्चित किया जाय।
दण्डाधिकारी या मुंसिफ के न्यायालय के समक्ष लंबित किसी मामले में किसी स्तर पर यदि संज्ञान में यह आता है कि मामला ग्राम कचहरी के न्यायपीठ के द्वारा विचारणीय है, तो यथास्थिति संबंधित न्यायालय तुरंत ऐसे मामले या वाद को ग्राम कचहरी को अन्तरित कर देगा।

 

ग्राम कचहरी में इन 40 धाराओं में होगी सुनवाई

धारा

विषय

140

थलसेना, नौसेना या वायुसेना की पोशाक पहन लोगों को ठगना

142-143

गैरकानूनी तरीके से लगाए गए जमघट में शामिल होना

145

सरकारी आदेश के बावजूद गैरकानूनी जमघट में बने रहना

153

दंगा-बलवा करने का दोषी पाए जाने पर

160

सार्वजनिक स्थल पर झगड़ा या हंगामा

172

सम्मन या आदेश के तामिला के डर से फरार हो जाना

174

सम्मन पर जानबूझ कर निश्चित स्थान व समय पर न आना

178

सत्य कथन के लिए शपथ लेने से इनकार करना

179

लोकसेवक द्वारा सवाल पूछने पर उत्तर नहीं देना या इनकार करना

269

ऐसा काम जिससे छूआछूत की बीमारी फैल जाए

277

सार्वजनिक तालाब या जलस्रोत के पानी को गंदा करना

283

आम रास्ते पर आने-जाने में बाधा पैदा करना

285

आग लेकर या पकड़ कर मानव जीवन को खतरे में डालना

286

बम या विस्फोटक पदार्थ के संबंध में उपेक्षापूर्ण आचरण

289

किसी पशु से संकट पैदा हो और उसे संभालने का इंतजाम नहीं करना

290

सार्वजनिक स्थान पर उपद्रव करके लोगों को परेशान करना

294

सार्वजनिक स्थल पर अश्लील कार्य करना या ऐसे गीत गाना

294 (अ)

अवैध लॉटरी निकालने के लिए दफ्तर खोलना

323

किसी को जानबूझ कर चोट पहुंचाना

334

अचानक उकसाने या भड़काने पर किसी के साथ मारपीट करना

338

वैसा कार्य जिससे दूसरे के जीवन पर संकट पैदा हो जाए

341

किसी को गलत ढंग से बाधा डालना

352

किसी व्यक्ति पर हमला करना

356

संपत्ति चोरी करने के प्रयास में आपराधिक बल का प्रयोग

357

किसी व्यक्ति को बलपूर्वक रोकने की चेष्टा करना

358

चिढ़ाने के बाद किसी व्यक्ति द्वारा गुस्से में हमला करना

374

किसी को फंसा कर उसकी इच्छा के विरुद्ध काम करवाना

379-380

दस हजार रुपए तक चुराई गई संपत्ति

403

बेईमानी करके किसी दूसरे की चल संपत्ति का उपयोग करना

426

खराब नियत से लोक संपत्ति या निजी संपत्ति को बर्बाद करना

428

खराब नियत से 10 रुपए से अधिक कीमत के पशु को जान से मारना

430

कृषि कार्य के लिए, मनुष्य व पशु के लिए पेयजल की कमी पैदा करना

447

दूसरे की संपत्ति में बिना पूछे या जबरदस्ती आपराधिक उद्देश्य से घुसना

448

किसी के घर में बिना अधिकार के आपराधिक उद्देश्य से घुसना

502

मानहानि विषय से संबंधित सामान रखना या बेचना

504

लोक शांति को भंग करना

506

जान से मारने या घायल करने अथवा आर्थिक नुकसान की धमकी

510

शराब पीकर सार्वजनिक स्थल पर परेशान करना

 

 

    Facebook Share