• support@answerspoint.com

क्या है हंता वायरस, यह कैसे फैलता है? इसके लक्षण, कारण और बचाव के उपाय क्या है?

Packers and Movers in Patna
5845

सोशल मिडिया पर कोरोना के बाद अब चीन में हंता वायरस का मामला सामने आने से हड़कंप मच गया है. चीन  के युन्नान प्रांत में एक व्‍यक्ति की सोमवार (मार्च 23, 2020) को हंता वायरस से मौत हो गई। जिससे चीन के आलावा भारत समेत पुरे विश्व मे एक डर का माहोल बन रहा है, 

क्या है हंता वायरस, यह कैसे फैलता है? इसके लक्षण, कारण और बचाव के उपाय क्या है? इसकी जानकारी दे|

1Answer


0

हंता वायरस पल्मोनरी सिंड्रोम कोई नया वायरस नहीं है इसलिए इसकी खबरों को सुनकर आपको डरने की ज़रूरत नहीं है. इसके केस पहले भी आ चुके हैं. 

इसकी शुरुआत मई, 1993 में दक्षिण-पश्चिम यूएस में हुई थी. एक जवान शख्स को सांस देने में दिक्कत हो रही थी, जिसके बाद उसे न्यू मैक्सिको के अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहां उसने दम तोड़ दिया था. जांच के बाद पाया गया कि शख्स की मंगेतर भी कुछ दिनों पहले समान लक्षणों के बाद अपनी जान गवां बैठी थी. CDC ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि अमेरिका, कनाडा, अर्जेंटीना, बोलीविया, ब्राजील, चिली, पनामा में भी इसके केस पाए गए.

क्‍या है हंता वायरस? | What Is Hantavirus

  1. हंता वायरस मुख्य रूप से चूहों द्वारा फैलता है
  2. हंता वायरस की करीब 21 से अधिक प्रजातियां मौजूद हैं
  3. चूहे के काटने से भी हंता वायरस फैल सकता है
  4. हंता वायरस में मृत्यु दर 38 फीसदी होती है

यूएस सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार, हंता वायरस मुख्य रूप से चूहों के द्वारा फैले वायरस का एक परिवार है और दुनिया भर के लोगों में विभिन्न रोग सिंड्रोम पैदा कर सकता है. सीडीसी ने कहा कि वायरस मूत्र, मल और लार के संपर्क में आने से फैलता है. हालांकि इसका कोई सबूत नहीं है कि हैंटावायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में फैल सकता है. सीडीसी वेबसाइट का कहना है कि इससे रेनोवायरस पल्मोनरी सिंड्रोम (एचपीएस) और रीनल सिंड्रोम के साथ रक्तस्रावी बुखार हो सकता है. यह चूहे या गिलहरी के संपर्क में इंसान के आने से फैलता है. सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक, हालांकि सोशल मीडिया पर दावे किए जा रहे हैं कि हंता वायरस एक व्‍यक्ति से दूसरे व्‍यक्ति में नहीं फैलता है, लेकिन अगर कोई व्‍यक्ति चूहों के मल, पेशाब को छूने के बाद अपनी आंख, नाक और मुंह को छूता है तो उसके हंता वायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है. इस वायरस से संक्रमित होने पर इंसान को बुखार, सिर दर्द, शरीर में दर्द, पेट में दर्द, उल्‍टी, डायरिया हो सकता है.

अमेरिका में हंता वायरस को "न्यू वर्ल्ड" कहा जाता है और इससे Hantavirus Pulmonary Syndrome हो सकता है। इस वायरस का एक और प्रकार है "ओल्ड वर्ल्ड" जो ज्यादातर यूरोप और एशिया में पाया जाता है।

हंता वायरस के लक्षण | Hantavirus Of Symptoms

हंता वायरस पल्मोनरी सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति को थकान, बुखार और मांसपेशियों में दर्द हो सकता है, खासकर जांघों, कूल्हों, पीठ और कभी-कभी कंधों में दर्द, सिरदर्द, ठंड लगना और चक्कर आना के साथ-साथ मतली, उल्टी और दस्त और पेट में दर्द भी हो सकता है.

इसके लक्षण प्रारंभिक चरण के 4-10 दिनों के बाद दिखाई देते हैं जिसमें खांसी और सांस की तकलीफ शामिल है. हैनटवायरस पल्मोनरी सिंड्रोम 38% की मृत्यु दर के साथ घातक हो सकता है.

रीनल सिंड्रोम (एचएफआरएस) के साथ रक्तस्रावी बुखार के लक्षण आमतौर पर संक्रामक सामग्री के संपर्क में आने के 1 से 2 सप्ताह के भीतर विकसित होते हैं, लेकिन दुर्लभ मामलों में, उन्हें विकसित होने में 8 सप्ताह तक का समय लग सकता है.

एक संक्रमित व्यक्ति अचानक तेज सिरदर्द, पीठ और पेट में दर्द, बुखार, ठंड लगना, मतली और धुंधली दृष्टि जैसी परेशानियां महसूस कर सकता है. यह चेहरे की सूजन या आंखों की लालिमा, या दाने के साथ हो सकता है.

बाद में हैनटवायरस के लक्षणों में निम्न रक्तचाप, तीव्र आघात, संवहनी रिसाव और तीव्र गुर्दे की विफलता शामिल हो सकती है, जिससे गंभीर तरल पदार्थ अधिभार हो सकता है। पूर्ण वसूली में सप्ताह या महीने लग सकते हैं।

हंता वायरस का इलाज या उपचार |  Treatment Of Hantavirus

सीडीसी का कहना है, हंता वायरस इंफेक्शन के लिए कोई विशिष्ट उपचार, इलाज या वैक्सीन नहीं है. हालांकि, अगर संक्रमित को जल्दी पहचान लिया जाता है और गहन चिकित्सा देखभाल प्रदान की जाती है, तो अच्छे परिणाम मिल सकते हैं. गहन देखभाल में, गंभीर श्वसन संकट की अवधि के दौरान रोगियों की मदद करने के लिए उन्हें इंटुबैट किया जाता है और ऑक्सीजन थेरेपी दी जाती है.

हंता वायरस की रोकथाम | Hantavirus Prevention

सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल के अनुसार, हंता वायरस संक्रमण को रोकने के लिए चूहें, गिलहरी आदि को कंट्रोल करना पहली प्राथमिक होनी चाहिए. चूहों से संक्रमित एरिया की सफाई करते समय चूहों के मूत्र, लार और घोंसले के संपर्क में आने से बचना चाहिए.

  • answered 2 years ago
  • Community  wiki

Packers and Movers in Patna

Your Answer

    Facebook Share        
       
  • asked 2 years ago
  • viewed 5845 times
  • active 2 years ago

Best Rated Questions