• support@answerspoint.com

आईपीसी (IPC) और सीआरपीसी (CrPC) में क्या अंतर है?

496

आईपीसी (IPC) और सीआरपीसी (CrPC) में क्या अंतर है?

1Answer


0

IPC (Indian Penal Code) भारतीय दण्ड संहिता है, यह बताता है कि अपराध क्या हैं और इनके लिए कितनी सजा निर्धारित है।
जबकि CrPC  (Code of Criminal Procedure) बतलाता है कि उस अपराध के लिए कैसे कार्रवाई की जायेगी। किस प्रकार अपराधी को गिरफ्तार किया जाएगा, पुलिस कैसे सबूत इकठ्ठे करेगी, अदालत में क्या प्रक्रिया अपनाई जायेगी,उसे जमानत कैसे मिलेगी|


IPC (Indian Penal Code)

IPC (Indian Penal Code) को हिंदी में भारतीय दंड संहिता और उर्दू में ताज इरात-ए-हिन्द भी कहते हैं जो कि 1860 में बना था। IPC में कुल मिलाकर 511 धाराएं ( Sections) और 23 chapters हैं यानी 23 अध्याओं में बटा हुआ है, ये धारा या Section लगातार संख्याओं को कहते हैं| IPC अपराध की परिभाषा करती है और दण्ड का प्रावधान की जानकारी देती है

1834 में पहला विधि आयोग (first law of commission) बनाया गया था। इसके चेयरपर्सन लॉर्ड मैकॉले थे. इन्हीं की अध्यक्षता में IPC का ड्राफ्ट तैयार किया गया था। 6 अक्टूबर 1860 में यह कानून संसद में पास हुआ और 1862 में यह पूरी तरह से लागू किया गया था। IPC विश्व का सबसे बड़ा दांडिक संग्रह यानी IPC से बड़ा देश में और कोई भी दांडिक कानून नहीं है इसलिए इसको मुख्य क्रिमिनल कोड भी कहते हैं।


CrPC  (Code of Criminal Procedure)

CrPC  (Code of Criminal Procedure) को हिन्दी में दण्ड प्रक्रिया संहिता कहते है|  यह कानून सन् 1973 में पारित हुआ और 1 अप्रैल 1974 से लागू हुआ था|  किसी भी प्रकार के अपराध होने के बाद दो तरह की प्रक्रियाएं होती हैं जिसे पुलिस किसी अपराधी की जांच करने के लिए अपनाती है, एक प्रक्रिया पीड़ित के संबंध में और दूसरी आरोपी के संबंध में होती है, इन्हीं प्रक्रियाओं के बारे में CrPC में बताया गया है|  यह अपराध होने पर उसपर किस प्रकार पुलिस और अदालतें कार्यवाही करेंगी इसके बारे में विस्तार से बताता है।

IPC और  CrPC में तुलना

तुलना का आधार IPC (Indian Penal Code) CrPC  (Code of Criminal Procedure)

अर्थ

भारतीय दण्ड संहिता या IPC देश में लागू सभी आपराधिक गतिविधियों को कवर करने और उनके लिए सजा, गिरफ्तारी से जुड़े कानूनों का प्रावधान अर्थात मूल आपराधिक कानून को संदर्भित करती है.

भारत में दण्ड प्रक्रिया संहिता (CrPC) आपराधिक कानून प्रक्रिया को विनियमित लागू करने के लिए एक प्रक्रिया है, जिसे आपराधिक मामले के दौरान पालन किया जाना चाहिए.

प्रकार

मौलिक विधि (Substantive law)

प्रक्रिया विधि (Procedural Law)

उद्देश्य

IPC को लागू करने का मुख्य उद्देश्य था कि पूरे भारत में एक तरह का पीनल कोड लागू किया जा सके ताकि अलग-अलग क्षेत्रीय कानूनों की जगह एक ही कोड हो सके.

दण्ड प्रक्रिया से संबंधित कानून को मजबूत करने के लिए.

कार्य

यह विभिन्न अपराधों और उनकी सजा को सूचीबद्ध करता है.

यह आपराधिक मामले में विभिन्न प्रकार की ली गई प्रक्रियों के बारे में  बताता है.

  • answered 7 months ago
  • B Butts

Your Answer

    Facebook Share        
       
  • asked 8 months ago
  • viewed 496 times
  • active 7 months ago

Hot Questions