• support@answerspoint.com

उभयचर प्राणी क्या है ..? इसकी विशेषता क्या है , यह कितने प्रकार के होते है ..

4286

उभयचर (Amphibia ) प्राणी क्या है . इसकी विशेषता क्या है , यह कितने वर्गों में पाए जाते है  ..

what is Amphibia , how many types of Amphibia ...?

3Answer


0

वैसे प्राणी (जीव ) जो जल और थल अर्थात (पानी और पृथ्वी ) दोनों परिवेश में आसानी से रह सकता है , उभयचर प्राणी कहलाता है ..

जैसे (मेंढक , सर्प )

अनुमानतः  अभी संसार में  इस वर्ग में ३००० जाति पाए जाते हैं

  • answered 2 years ago
  • Community  wiki

0

मेंढक उभयचर वर्ग का जंतु है जो पानी तथा जमीन पर दोनों जगह रह सकता है ..

  • answered 2 years ago
  • Community  wiki

0

उभयचर वर्ग (Amphibia / एंफ़िबिया) पृष्ठवंशीय प्राणियों का एक बहुत महत्वपूर्ण वर्ग है जो जीववैज्ञानिक वर्गीकरण के अनुसार मत्स्य और सरीसृप वर्गों के बीच की श्रेणी में आता है। इस वर्ग के कुछ जंतु सदा जल पर तथा कुछ जल और थल दोनों पर रहते हैं। ये अनियततापी जंतु हैं। इस वर्ग में ३००० जाति पाए जाते हैं। शरीर पर शल्क, बाल या पंख नहीं होते हैं, परंतु इनकी त्वचा अधिक ग्रंथिमय होने के कारण चिकनी होती है। मेंढक इस वर्ग का एक प्रमुख प्राणि है।

यह पृष्ठवंशियों का प्रथम वर्ग है, जिसने जल के बाहर रहने का प्रयास किया था। फलस्वरूप नई परिस्थितियों के अनुकूल इनकी रचना में प्रधानतया तीन प्रकार के अंतर हुए-

(१) इनका शारीरिक ढाँचा जल में तैरने के अतिरिक्त थल पर भी रहने के योग्य हुआ।

(२) क्लोम दरारों के स्थान पर फेफड़ों का उत्पादन हुआ तथा रक्तपरिवहन में भी संबंधित परिवर्तन हुए।

(३) ज्ञानेंद्रियों में यथायोग्य परिवर्तन हुए, जिससे ये प्राणी जल तथा थल दोनों परिस्थितियों का ज्ञान कर सकें।

 

विशेष लक्षण

उभयचर के कुछ विशेष लक्षण निम्नलिखित हैं :

  • इनकी त्वचा पर किसी प्रकार का बाह्‌य कंकाल, जैसे शल्क, बाल इत्यादि नहीं होते और त्वचा आर्द्र होती है।
  • मीनपक्षों के स्थान पर दो जोड़ी पाद होते हैं।
  • इनमें दो नासाद्वार होते है, जो मुखगुहा द्वारा फेफड़ों से संबद्ध रहते हैं।
  • हृदय में तीन वेश्म होते हैं।
  • ये असमतापी जीव होते हैं।
  • इनमें एक विशेष प्रकार का मध्यकर्ण पाया जाता है जिससे इन्हें वायुध्वनियों का ज्ञान होता है।

वर्गीकरण

उभयचर वर्ग में लगभग २,५०० प्रकार के विभिन्न प्राणी सम्मिलित हैं, जिनको चार गणों में विभाजित किया जाता है :

  • सपुच्छा (कॉडेटा);
  • विपुच्छा (सेलियंशिया);
  • अपादा (ऐपोडा) और
  • आवृतशीर्ष (स्टीगोसिफेलिया)।
  • answered 2 years ago
  • Community  wiki

Your Answer

    Facebook Share        
       
  • asked 2 years ago
  • viewed 4286 times
  • active 2 years ago

Hot Questions